माँ क्‍या है?


Happy Mother’s Day Mom!!!

माँ, माँ-माँ संवेदना है, भावना है अहसास है
माँ, माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है,

माँ, माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है,
माँ, माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है,

माँ, माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,
माँ, माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है,

माँ, माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है,
माँ, माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है,

माँ, माँ झुलसते दिलों में कोयल की बोली है,
माँ, माँ मेहँदी है, कुमकुम है, सिंदूर है, रोली है,

माँ, माँ कलम है, दवात है, स्याही है,
माँ, माँ परमात्मा की स्वयं एक गवाही है,

माँ, माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है,
माँ, माँ फूँक से ठँडा किया हुआ कलेवा है,

माँ, माँ अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,
माँ, माँ जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है,

माँ, माँ चूडी वाले हाथों के मजबूत कं धों का नाम है,
माँ, माँ काशी है, काबा है और चारों धाम है,

माँ, माँ चिंता है, याद है, हिचकी है,
माँ, माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है,

माँ, माँ चुल्हा-धुँआ-रोटी और हाथों का छाला है,
माँ, माँ ज़िंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है,

माँ, माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है,
माँ बिना इस सृष्टि की कल्पना अधूरी है,

तो माँ की ये कथा अनादि है,
ये अध्याय नही है…
…और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है,

तो माँ का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता,
और माँ जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता !!
Sent on my BlackBerry® from Vodafone

Advertisements

About Tejas

I am a fun-loving person, who lives in the moment. I don't plan too much into the future.... I am a twitterholic , net-o-maniac, gadgetfreak all rolled into one. I blog about anything to everything (or nothing) that interests me.
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

6 Responses to माँ क्‍या है?

  1. shakilakhtar says:

    woh apni maN ka dil le kar ja raha tha ke ghadiyal ko khila de ke use thokar lagi, dil se awaz ayi, beta chot to nahi lagi?..

    • Tejas says:

      Who doesn’t remember that story Shakil bhai…. we all grew up on those stories, panchtantra, amar chitra katha, champak….. growing up in those days was different…… I cannot say any more than that. 🙂

      • shakilakhtar says:

        yes maN is one topic even bitter enemies, those that live only to contradict others, agree that she is especial. I lost mine when I was 9 but still cherish the few moments I remember of her love and affection and care. I never got any one remotely equal.

      • Tejas says:

        Don’t we all. They say it, and rightly so that “no one loves you more in this world, than your mother” I can’t add any more to that….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s